योगी आदित्यनाथ राजस्थान में करेंगे मैराथन रैलियां, ये रहेगा कार्यक्रम

dc-Cover-tlfhoq2il1tlom4lpn592h8h63-20170416012931.Medi
dc-Cover-tlfhoq2il1tlom4lpn592h8h63-20170416012931.Medi

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ स्टार प्रचारक के रूप में भाजपा के लिए प्रदेश में मैराथन रैलियां करेंगे। आदित्यनाथ के राजस्थान में रैलियों का कार्यक्रम गुरूवार को जारी किया गया है। भाजपा के प्रदेश संगठन पिछले कुछ समय से कार्यकर्ताओं की डिमांड पर योगी आदित्यनाथ को राजस्थान बुलाने के लिए प्रयासरत थे। ऐसा पहली बार होगा जब योगी किसी दूसरे राज्य में जाकर भाजपा के लिए प्रचार प्रसार का जिम्मा संभालेंगे।

कार्यक्रम के अनुसार योगी की रैलियां 23 नवंबर से शुरू होंगी जो 30 नवंबर तक जारी रहेंगी। सबसे पहले योगी हाड़ौती क्षेत्र का रुख करेंगे जहां वो कोटा के रामगंजमंडी,कोटा दक्षिण और सांगोद क्षेत्र में रैली करेंगे। 24 नवंबर को योगी मारवाड़ में होंगे जहां वो पाली,सोजत और मारवाड़ जंक्शन में रैली को संबोधित करेंगे।

25 नवंबर को योगी भीनमाल,सांचौर,रानीवाड़ा में होंगे वहीं 26 नवंबर को जयपुर के शाहपुरा,फुलेरा और चौमूं में रैली प्रस्तावित की गई है। अगले दिन 27 नवंबर को कुंभलगढ़,निंबाहेड़ा में रैली आयोजित की जाएगी। 28 नवंबर को शेखावाटी क्षेत्र के पिलानी सूरजगढ़ का नंबर आएगा वहीं 29 नवम्बर को जहाजपुर,मांडलगढ़ में रैली होगी। 30 नवंबर को योगी अलवर, मुंडावर और जयपुर की किशनपोल सीट के लिए भाजपा का प्रचार करते दिखाई देंगे।

ये रहेगा पीएम मोदी का कार्यक्रम

राजस्थान में पीएम मोदी की रैलियां भी आयोजित होंगी हालांकि मोदी ज्यादा समय तक प्रदेश में प्रचार प्रसार नहीं करेंगे। पाटी ने उन्हें प्रचार के आखिरी दौर में बुलाने का फैसला किया है।

 

कार्यक्रम के अनुसार पीएम 23 नवंबर को अलवर में, 26 नवंबर को जयपुर व भीलवाड़ा में, 27 नवंबर को नागौर और कोटा में, 28 नवंबर को बेणेश्वर धाम डूंगरपुर और दौसा में पीएम की रैलियां आयोजित होंगी।

अमित शाह भी एंड में लगाएंगे प्रचार का तड़का

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह प्रचार कार्यक्रम में तड़का लगाने आखिरी वक्त में ही राजस्थान दौरे पर आएंगे। तय कार्यक्रम के अनुसार शाह 4 दिसंबर को हनुमानगढ़,सीकर,जोधपुर में अंतिम जनसभा को संबोधित करेंगे और उससे पहले 30 नवंबर से 3 दिसंबर तक अमित शाह के प्रदेश में कुछ दौरे होने की संभावना है जिसका स्थान तय नहीं किया गया है। इतना जरूर है कि जहां जहां पीएम मोदी की रैलियां होंगी वहां अमित शाह भाग नहीं लेंगे और जहां अमित शाह जाएंगे वहां पीएम मौजूद नहीं होंगे। ऐसे इसलिए किया जा रहा है क्योंकि अब चुनाव की तारीख आने में ज्यादा समय नहीं बचा है और पार्टी के पास समय भी बहुत कम है ऐसे में दोनों स्टार प्रचारक जितना हो सकेगा उतने क्षत्र को अकेले ही निपटाने की कोशिश करेंगे।