मायावती को झटका, राजस्थान में बसपा के 6 विधायक कांग्रेस में शामिल

राजस्थान में बसपा समेत मायावती को झटका लगा है। अशोक गहलोत सरकार को बाहर से समर्थन दे रही मायावती की बसपा पार्टी के 6 विधायकों ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। बता दें कि चार महीने पूर्व मायावती ने सभी विधायक को धमकी दी थी कि वो पार्टी के अनुसार ही चले। उन्होंने कहा था कि अगर वो ऐसा करते हैं तो पार्टी से निकाल दिए जाएंगे और इसके बाद से उन्हें टिकट नहीं मिलेगा। इस चेतावनी ने विधायकों का मूड बिगाड़ दिया और उन्होंने बगावत के सुर छेड़ दिए। इसके बाद मायावती बैफुट पर आई और सभी विधायकों को विश्वास में लेने के लिए दिल्ली तलब किया लेकिन मायावती की चेतावनी को दरकिनार करते हुए और विश्वास को तोड़ते हुए सोमवार को सभी 6 विधायकों ने पार्टी छोड़ कांग्रेस (Rajasthan Congress Committee) का हाथ थाम लिया। बसपा छोड़ कांग्रेस में शामिल होने वाले 6 विधायकों के नाम इस प्रकार हैं।

भरतपुर के नगर विधायक वाजिब अली ने मायावती का साथ छोड़ कांग्रेस का हाथ थामा है।
करौली विधायक लाखन सिंह ने भी मायावती की बहुजन समाज पार्टी से नाता तोड़ कर गहलोत सरकार में कांग्रेस ज्वॉइन कर ली है।
शेखावाटी के उदयपुरवाटी (झुंझुनूं) विधायक राजेंद्र गुढ़ा भी कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं
भरतपुर से नदबई विधायक जोगिंदर अवाना ने बीएसपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए हैं
किशनगढ़ बास से बीएसपी विधायक दीपचंद खेरिया ने मायावती का साथ छोड़ कांग्रेस ज्वॉइन कर ली है।
अलवर की तिजारा विधानसभा सीट से बीएसपी के टिकट पर जीत कर विधानसभा पहुंचे संदीप यादव ने पार्टी बदल ली है।यादव ने कांग्रेस पार्टी का हाथ थाम लिया है।
मायावती के लिए राजनीति के पिछले तीन साल किसी बुरे सपने की तरह रहे हैं। विधानसभा और लोकसभा चुनाव में उन्हें मुंह की खानी पड़ी थी। कुछ जगह पर उनकी पार्टी के हाथ कुछ आया था, वहां उनके रवैये ने सब खो दिया। अगर ऐसा ही चलता रहा तो बसपा भारतीय राजनीति में इतिहास बनकर रह जाएगी।