जिन्हें नहीं मिला टिकट उनकी नजरें अब तीसरे मोर्चे में शमिल होने पर

ghan_3608854_835x547-m
ghan_3608854_835x547-m

भाजपा द्वारा टिकट वितरण के बाद उम्मीदवारों की पहली लिस्ट में कई नेताओं के पत्ते काटे गए। 3 मंत्रियों समेत 25 ऐसे विधायक हैं जिन्हें फीडबैक के आधार पर भाजपा ने टिकट नहीं दिए। कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त कर चुके मंत्री सुरेन्द्र गोयल तो टिकट ना मिलने से इतने आहत हुए कि उन्होनें सूची आने के अगले ही दिन पार्टी से इस्तीफा दे दिया और अब वो 17 नवंबर को निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अपना नामांकन दाखिल करेंगे। ऐसे ही भाजपा ने नागौर से विधायक हबीबुर्रहमान का भी टिकट काटा है ​जो बीजेपी के गिने चुने अल्पसंख्यक चेहरों में से एक थे। सूत्रों के अनुसार मालूम चला है कि पार्टी द्वारा नजरअंदाज किए जाने के बाद हबीबुर्ररहमान हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से जुड़ सकते हैं। हालांकि अभी इस बात पर कोई मुहर नहीं लग पाई है कि भाजपा के एक और नेता बागी होने का मन बना रहे हैं मगर ऐसे इशारों से इतना तो साफ हो चला है कि अब प्रदेश में कांग्रेस और भाजपा से टिकट नहीं मिल पाने से नाराज कुछ नेता तीसरे मोर्चे का रूख कर सकते हैं क्योंकि ​अभी तीसरा मोर्चा बनाने का दावा करने वाली बेनीवाल और घनश्याम तिवाड़ी की पार्टियों ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है मगर वो पूरी 200 विधानसभा सीटों से चुनाव लड़ने का मन बना चुके हैं।

समर्थकों की नाराजगी का दौर हुआ शुरू

भाजपा में टिकट कटने से नाराज कई विधायकों के समर्थकों की नाराजगी का दौर अब शुरू हो गया है। अजमेर के किशनगढ़ में आज भाजपाईयों ने अमित शाह के नाम पर अपने इस्तीफे भेजे हैं। किशनगढ़ से मौजूदा विधायक भागीरथ चौधरी का पत्ता काटा गया है और उनके स्थान पर विकास चौधरी को टिकट दिया गया है। जयपुर में स्थित पार्टी मुख्यालय पर आज कई विधायकों मंत्रियों के समर्थकों का जमावड़ा लगा रहा। आज मंत्री राजकुमार रिणवां के समर्थकों ने भी काफी हंगामा किया और नारेबाजी की। वहीं हाड़ौती के रामगंजमंडी से मदन दिलावर को टिकट दिए जाने से कार्यकर्ताओं में काफी रोष है और उन्होनें पैराशूट प्रत्याशी उतारने पर नाराजगी जताई है।

कांग्रेस को भी झेलनी पड़ सकती है यही परेशानी

कांग्रेस ने फिलहाल अपने प्रत्याशियों की पूरी सूची जारी नहीं की है मगर इतना तय है कि भाजपा की ही तरह कमोबेश ऐसे ही हाल कांग्रेस के ​भी रहने वाले हैं जहां पहले से ही अशोक गहलोत और सचिन पायलट के समर्थक दो धड़ों में बंटे हुए हैं। पार्टी में कार्यकर्ताओं का हंगामा होना तय ही माना जा रहा है।