मोदी लहर में जीते हरीशचंद मीणा ने कांग्रेस का थामा दामन, किरोड़ी ने कहा ‘मौकापरस्त’

Dr8clBxW4AANtnl
Dr8clBxW4AANtnl

पिछले लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के चलते दौसा से सांसद बने पूर्व नौकरशाह हरीशचंद मीणा ने कांग्रेस का दामन थाम लिया है। अब वो अपने क्षेत्र बामनवास से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने की प्लानिंग कर रहे हैं। बता दें कि हरीशचंद मीणा फिलहाल दौसा से सांसद हैं और राजस्थान के पूर्व डीजीपी भी रह चुके हैं। वहीं हरीश के बड़े भाई नमोनारायण मीणा कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं और वो भी नौकरशाह से राजनेता बने थे।

हरीशचंद मीणा के कांग्रेस जॉइन करने के बाद उनके ही इलाके से आने वाले भाजपा नेता किरोड़ीलाल मीणा ने कहा कि ‘हरीशचंद मीणा मौकापरस्त इंसान है इसलिए उन्होनें इसबार भाजपा से अपना टिकट कटता देख कांग्रेस का दामन थाम लिया। उन्होनें कहा कि हरीश मीणा कांग्रेस मुक्त भारत में अपना सहयोग देने के लिए गए हैं। मीणा वोटों के बंटने के सवाल पर किरोड़ी ने कहा कि हरीशचंद के कांग्रेस में जाने से जनता में ये साफ मैसेज जा रहा है कि आदमी अपने फायदे के लिए पार्टी और जनता को भी पीछे छोड़ सकता है।

मीणा के कांग्रेस में जाने के क्या हैं मायने

दरअसल दौसा सांसद हरीशचंद मीणा पिछली बार मोदी लहर के चलते जीत गए जिनके सामने उनके अपने ही बड़े भाई नमोनारायण मीणा कांग्रेस के टिकट पर खड़े हुए थे। किरोड़ीलाल मीणा के फिर से भाजपा में शामिल होने से अब हरीशचंद मीणा का पार्टी में प्रभाव काफी कम हो गया है ऐसे में कयास ये भी लगाए जा रहे हैं कि आने वाले समय में किरोड़ी भाजपा के किसी बड़े मंत्री पद पर कायम हो सकते हैं और दौसा से लोकसभा सांसद का चुनाव भी लड़ सकते हैं तो लाजमी है कि हरीश मीणा का पत्ता साफ होना तय था। वहीं हरीश मीणा बामनवास सीट से कांग्रेस के टिकट पर इस बार विधायक का चुनाव लड़ सकते हैं।

 

बुधवार को दिल्ली में उन्होनें अशो​क गहलोत और सचिन पायलट के सामने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की जिसके बाद वो सचिन पायलट से मुलाकात करने के लिए भी जाते दिखाई दिए। कयास तो यही लगाए जा रहे हैं कि मीणा पायलट से बामनवास सीट से टिकट मांगने के लिए गुहार लगा रहे हैं, खैर अब हरीश मीणा भी कांग्रेस में शामिल हो गए हैं तो अब उनके बड़े भाई को लोकसभा चुनावों में कोई परेशानी नहीं होगी और यदि हरीश इस बार विधायक बनते हैं और नमो लोकसभा चुनाव जीतते हैं तो इनके परिवार के दोनों हाथों में लड्डू होंगे।