राजस्थान के रण में दिग्गज हुए धराशायी, उम्मीद से भी ज्यादा बुरी तरह हारे

राजस्थान के रण में दिग्गज हुए धराशायी, उम्मीद से भी ज्यादा बुरी तरह हारे
राजस्थान के रण में दिग्गज हुए धराशायी, उम्मीद से भी ज्यादा बुरी तरह हारे

राजस्थान के रण से निक​लकर सामने आए चुनावी परिणामों ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि जनता जनार्दन से कोई बड़ा नहीं होता। नतीजों में जहां कांग्रेस सत्ता का ताज एक बार फिर से पहनने जा रही है वहीं यहां कई दिग्गज ऐसे भी हैं जो बुरी तर​ह से धराशायी हुए हैं। प्रदेश में कहीं कहीं भाजपा कांग्रेस ने एक दूसरे को कड़ी टक्कर दी तो कहीं दोनों पार्टियों के कई प्रत्याशियों को रिकॉर्ड वोट मिले। आइये डालते हैं ऐसे ही रोचक मुकाबलों पर नजर

पायलट vs युनूस: जमानत जब्त होने के आसार

राजस्थान में सबसे हॉट सीट मानी जा रही टोंक विधानसभा में कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने बड़ी बाजी मारते हुए वसुंधरा सरकार में मंत्री रहे युनूस खान को करीब 54 हजार वोटों से हराकर उनकी जमानत ही जब्त करवा दी है। युनूस भाजपा की तरफ से एकलौते मुस्लिम प्रत्याशी थे।

घनश्याम तिवाड़ी: पार्टी छोड़िए खुद की सीट भी नहीं बचा पाए

भाजपा से बगावत कर अपनी नई पार्टी बनाने वाले सांगानेर के पूर्व विधायक घनश्याम तिवाड़ी की पार्टी तो पूरे प्रदेश में कहीं भी खाता नहीं खोल पाई उल्टा खुद तिवाड़ी को मात्र 17 हजार वोट मिलने से अब उनकी जमानत जब्त हो गई है। तिवाड़ी 2013 में इसी सीट से 65 हजार वोटों से जीते थे।

रामेश्वर डूडी: नेता प्रतिपक्ष की करारी हार

भाजपा सरकार में नेता प्रतिपक्ष की भूमिका निभाने वाले कांग्रेस के रामेश्वर डूडी को नोखा सीट से करारी हार का सामना करना पड़ा है। उनके सामने भाजपा के बिहारी विश्नोई मैदान में थे।

अशोक परनामी: नए नवेले रफीक ने बुरी तरह हराया

भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी को जयपुर की आदर्श नगर विधानसभा सीट से कांग्रेस के नए चेहरे रफीक खान ने 12 हजार वोटों से हराया है। परनामी इस सीट से 2 बार विधायक रह चुके हैं।

गिरिजा व्यास: करीबी मुकाबले में मिली हार

कांग्रेस की दिग्गज नेता गिरिजा व्यास भाजपा के गुलाबचंद कटारिया से करीबी मुकाबले में हार गई।