राजस्थान चुनाव:कांग्रेस और भाजपा की नैया डूबो सकती है ये भूल…

Jaswant-Singh-Son-Manvendra-644x362
Jaswant-Singh-Son-Manvendra-644x362

राजस्थानः विधानसभा चुनाव की हवा अपनी ओर करने के लिए प्रत्येक राजनीतिक दलों ने सियासत को गर्मा दिया है। राज्य सरकार को सत्ता को दूर करने के लिए विरोधी लगातार आरोपों से वार कर रहे हैं। चुनाव से पहले अपनी छवि को स्वच्छ बनाने के लिए जनता के सामने विकास मॉडल रखा जा रहा है। वहीं सत्ता में काबित भाजपा 5 सालों में किए गए कार्यों का गुणगान कर वोट बैंक अपनी ओर करने में जुटी हुई है। कांग्रेस और भाजपा के अलावा आम आदमी पार्टी,भारत वाहिनी पार्टी और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी की भूमिका को चुनाव से अलग करना  दोनों ही बड़ी पार्टियों की भूल हो सकती है। इससे मुकाबला ओर भी कड़ा हो गया हैं। अगर यह तीनों दल 15-20 सीट निकाल देती है तो सरकार बनाने में छोटे दल अहम भूमिका निभा सकते हैं।

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी लोकसभा चुनाव से पहले राजस्थान विधानसभा चुनाव को जनता की राय के रुप में देख रहे हैं। राहुल गांधी खुद राजस्थान के चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक रहे हैं। सबसे ज्यादा उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है।

राजस्थान के चुनाव को राजनीतिक विशेषज्ञ लोकसभा के सेमीफाइनल के रूप में भी देख रहे हैं। कांग्रेस की युवा ब्रिगेड़ के कप्तान कहे जाने वाले सचिन पायलट ने भी युवाओं को आपनी तरफ खींचना शुरू कर दिया हैं। प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट कांग्रेस के मुख्यमंत्री प्रत्याशी के रुप में भी देखे जा रहे है साथ ही कांग्रेस ने ब्राह्मण मतदाताओं को लुभाने के लिए अपने कई प्रत्याशी ब्राह्मण उतारे हैं । राजस्थान में 7,12,2018 को मतदान होना हैं।