राकेश अस्थाना को हाईकोर्ट से मिली राहत, अगली सुनवाई तक नहीं होगी गिरफ्तारी

दिल्ली हाई कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 29 अक्टूबर निर्धारित की है

रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार के आरोप झेल रहे सीबीआई में नंबर 2 और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना अपने ऊपर दर्ज हुए मामलों को लेकर दिल्ली के हाई कोर्ट गए थे. जहां उन्हें हाई कोर्ट ने राहत देते हुए अगली सुनवाई तक गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है. दिल्ली हाई कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 29 अक्टूबर निर्धारित की है. मतलब अब 29 अक्टूबर तक राकेश अस्थाना को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकती है.

अस्थाना का पक्ष रखते हुए उनके वकील ने कहा कि ‘राकेश अस्थाना के ऊपर एक आरोपी के बयान के बाद गैरकानूनी एफआईआर दर्ज की गई है. जिस आरोपी की गिरफ्तारी खुद अस्थाना के कहने पर हुई थी उसी आरोपी के कहने पर शिकायत दर्ज करवा दी गई. उचित अनुमति के बगैर कोई भी कार्यवाही अवैध होग़ी.’

वहीँ सीबीआई के काउंसल का कहना है कि राकेश अस्थाना के खिलाफ रिश्वतखोरी समेत लगे सभी आरोप गंभीर हैं. फर्जीवाड़े और जबरन वसूली के केस अभी और जोड़े जाएंगे.

गौरतलब है कि सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना से जुड़े रिश्वतखोरी के आरोपों में गिरफ्तार पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र कुमार भी दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचे थे. वहीं राकेश अस्थाना भी अपने खिलाफ दायर हुए एफआईआर को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट गए थे. उन्होंने इस याचिका में अपने खिलाफ किसी भी तरह की दंडात्मक कार्रवाई न होने की मांग की थी.

देवेंद्र कुमार को राकेश अस्थाना के इस मामले में सोमवार को गिरफ्तार किया गया था. देवेंद्र कुमार अपनी खिलाफ हुई दर्ज एफआईआर और अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ कोर्ट में अपील दाखिल की थी. देवेंद्र कुमार ने कहा ता कि उन्हें इस मामले में सिर्फ बलि का बकरा बनाया जा रहा है. गिरफ्तारी के बाद सीबीआई के एक अधिकारी मीडिया को बातचीत में बताया कि देवेंद्र कुमार मीट कारोबारी मोईन कुरैशी के खिलाफ चल रहे मामले में जांच अधिकारी थे. उन्‍हें सतीश साना के बयान दर्ज करने में जालसाजी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

अधिकारी के अनुसार साना ने अपने खिलाफ चल रहे जालसाजी के मामले में राहत पाने के लिए कथित तौर पर रिश्वत दी थी. उन्होंने दावा किया, साना का बयान कथित तौर पर 26 सितंबर 2018 को अस्थाना के नेतृत्व वाली जांच टीम द्वारा दर्ज किया गया. लेकिन सीबीआई की जांच में सामने आया कि उस दिन साना हैदराबाद में थे.